भारत में आ रही है Tesla, सरकार के साथ बातचीत जोरों शोरों पर

अमेरिकी इलेक्ट्रिक वाहन (EV) निर्माता Tesla ने भारत में एक कारखाना स्थापित करने के लिए भारत सरकार के साथ चर्चा दौर शुरू कर दिया है। कंपनी कई महीनों से सरकार के साथ बातचीत कर रही है, लेकिन चर्चा अब और अधिक उन्नत चरण में पहुंच गई है।

डेली अपडेट्स के लिए हमसे जुड़ें

ताजा खबरों के लिए WhatsApp ग्रुप से जुड़ेंJOIN NOW
लेटेस्ट न्यूज़ Updates के लिए हमारे Telegram चैनल से जुड़ेंJOIN NOW

Tesla कथित तौर पर भारत में एक फैक्ट्री स्थापित करना चाह रही है जो इलेक्ट्रिक कारों और बैटरी दोनों का उत्पादन करेगी। कंपनी भारत सरकार की प्रोडक्शन लिंक्ड इंसेंटिव (PLI) योजना का भी लाभ उठाना चाहती है, जो भारत में विनिर्माण संयंत्र स्थापित करने वाली कंपनियों को प्रोत्साहन प्रदान करती है।

भारत सरकार Tesla को भारत में आकर्षित करने के लिए उत्सुक है, क्योंकि वह कंपनी को देश के EV उद्योग के लिए एक बड़े प्रोत्साहन के रूप में देखती है। सरकार यह भी उम्मीद कर रही है कि Tesla के भारत में प्रवेश से देश में EV को अपनाने में तेजी लाने में मदद मिलेगी।

हालाँकि, अभी भी कुछ बाधाएँ हैं जिन्हें Tesla द्वारा भारत में कारखाना स्थापित करने से पहले दूर करने की आवश्यकता है। मुख्य चुनौतियों में से एक भारत में इलेक्ट्रिक कारों पर उच्च आयात शुल्क है। इलेक्ट्रिक कारों पर वर्तमान आयात शुल्क 60% है, जिससे Tesla के लिए भारत में अपनी कारों का आयात करना बहुत महंगा हो जाता है।

भारत सरकार कथित तौर पर इलेक्ट्रिक कारों पर आयात शुल्क कम भी करने पर विचार कर रही है, जिससे Tesla के लिए भारत में कारखाना स्थापित करना अधिक किफायती हो सकता है। हालाँकि, यह अभी तक स्पष्ट नहीं है कि क्या सरकार Tesla को संतुष्ट करने के लिए आयात शुल्क को कम करने को तैयार होगी।

और पढ़ें: 7 मशहूर हस्तियां और उनकी पहली साधारण कारें

और पढ़ें: WATCH: सड़क पर रंग बदलने वाली BMW कार हुई वायरल, जानें कैसे करती है ये काम

Tesla के सामने एक और चुनौती भारत में EV के लिए बुनियादी ढांचे की कमी है। भारत में फिलहाल चार्जिंग स्टेशनों की कमी है, जिससे Tesla के लिए देश में अपनी कारें बेचना मुश्किल हो जाएगा। भारत सरकार इस मुद्दे के समाधान के लिए काम कर रही है, लेकिन भारत में पर्याप्त संख्या में चार्जिंग स्टेशन होने में कुछ समय लगने की संभावना है।

चुनौतियों के बावजूद Tesla अभी भी भारत में फैक्ट्री स्थापित करने को इच्छुक है। कंपनी भारत को EV के लिए एक प्रमुख संभावित बाजार के रूप में देखती है, और उसका मानना ​​है कि भारत सरकार EV को अपनाने को बढ़ावा देने के लिए प्रतिबद्ध है।

देखना यह होगा कि क्या Tesla चुनौतियों से पार पाकर भारत में फैक्ट्री स्थापित कर पाएगी। हालाँकि, सरकार के साथ कंपनी की नवीनतम चर्चा से पता चलता है कि Tesla भारत के लिए अपनी योजनाओं को लेकर गंभीर है।

Leave a Comment